बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी में अब पढ़ायी जायेगी भूत विद्या

Must Read

9 महीने बाद दिखेगा कोरोना का एक और रूपः ज्यादा बच्चे होंगे पैदा

पैगाम ब्यूरोः कोरोना वायरस पर काबू पाने की युद्ध स्तर पर कोशिश चल रही है. दुनिया भर के वैज्ञानिक...

क्या भारत कोरोना के तीसरे स्टेज में पहुंच चुका है, सरकार ने दी जानकारी

पैगाम ब्यूरोः देश में कोरोना का आतंक और मरने वालों की तादाद बढ़ती ही जा रही है. इस परिस्थिति...

दारुल उलूम देवबंद ने बढ़ाया मदद का हाथः मदरसे को आसोलेन वार्ड बनाने की पेशकश

पैगाम ब्यूरोः कोरोना वायरस के कहर से निपटने में हर कोई अपने स्तर पर मदद कर रहा है. देश...

पैगाम ब्यूरोः अगर आप भूतों की दुनिया, अलौकिक या अप्राकृतिक रूप से रहस्यमयी दुनिया की हैरतअंगेज बातों को जानने को उत्सुक हैं. तो अब आप बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (बीएचयू) में ‘भूत विद्या’ का अध्ययन कर सकते हैं.  बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी  इस विषय पर छह महीने का सर्टिफिकेट कोर्स शुरू कर रहा है. भूत विद्या एक मनोचिकित्सा है और छह महीने के सर्टिफिकेट कोर्स में, डॉक्टरों को मनोचिकित्सा संबंधी विकारों और असामान्य कारणों से होने वाली असामान्य मनोवैज्ञानिक स्थितियों के इलाज के लिए उपचार और मनोचिकित्सा के बारे में सिखाया जाएगा, जिसे कई लोग भूत की वजह से होना मानते हैं.

पहले बैच की क्लास जनवरी से शुरू होगी और आयुर्वेद संकाय द्वारा संचालित की जायेगी. ‘भूत’ के कारण होने वाले मानसिक विकारों और बीमारियों का इलाज बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी (बीएएमएस) और बैचलर ऑफ मेडिसिन एंड बैचलर ऑफ सर्जरी (एमबीबीएस) डिग्री धारकों को सिखाया जायेगा. आयुर्वेद संकाय की डीन यामिनी भूषण त्रिपाठी ने बताया कि ब्रांच के बारे में डॉक्टरों को औपचारिक शिक्षा प्रदान करने के लिए आयुर्वेद संकाय में भूत विद्या की एक अलग इकाई बनायी गई है.

उन्होंने कहा कि यह भूत-संबंधी बीमारियों और मानसिक विकारों के इलाज के आयुर्वेदिक उपचार से संबंधित है. यामिनी भूषण त्रिपाठी ने आगे कहा कि भूत विद्या अष्टांग आयुर्वेद की आठ बुनियादी शाखाओं में से एक है. यह मुख्य रूप से मानसिक विकारों, अज्ञात कारणों और मन या मानसिक स्थितियों के रोगों से संबंधित है. बीएचयू में आयुर्वेद संकाय, भूत विद्या की एक अलग इकाई बनाने और विषय पर एक सर्टिफिकेट कोर्स डिजाइन करने वाला देश का पहला संकाय है.

इस आयुर्वेद शाखा के लिए छह महीने पहले एक अलग इकाई स्थापित करने के प्रयास शुरू हुए थे. संकाय में सभी 16 विभागों के प्रमुखों की बैठक के बाद इस प्रस्ताव का मसौदा तैयार किया गया था. फिर यह प्रस्ताव यूनिवर्सिटी की अकादमिक परिषद को भेजा गया, जिसने अष्टांग आयुर्वेद की बुनियादी शाखाओं में से एक पर एक अलग इकाई और एक प्रमाणपत्र पाठ्यक्रम को मंजूरी दी.

संकाय में एसोसिएट प्रोफेसर आयुर्वेद वैद्य सुशील कुमार दुबे ने कहा कि नयी इकाई भूत विद्या से संबंधित विभिन्न चीजों के अध्ययन में मदद करेगी, जो पूरी तरह से आयुर्वेदिक तरीके से मनोवैज्ञानिक विकारों और असामान्य मानसिक स्थिति से संबंधित है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

9 महीने बाद दिखेगा कोरोना का एक और रूपः ज्यादा बच्चे होंगे पैदा

पैगाम ब्यूरोः कोरोना वायरस पर काबू पाने की युद्ध स्तर पर कोशिश चल रही है. दुनिया भर के वैज्ञानिक...

क्या भारत कोरोना के तीसरे स्टेज में पहुंच चुका है, सरकार ने दी जानकारी

पैगाम ब्यूरोः देश में कोरोना का आतंक और मरने वालों की तादाद बढ़ती ही जा रही है. इस परिस्थिति में यह अफवाह तेजी से...

दारुल उलूम देवबंद ने बढ़ाया मदद का हाथः मदरसे को आसोलेन वार्ड बनाने की पेशकश

पैगाम ब्यूरोः कोरोना वायरस के कहर से निपटने में हर कोई अपने स्तर पर मदद कर रहा है. देश के बड़े-बड़े उद्योगपतियों, फिल्मस्टार और...

यूपी पुलिस की हैवानियतः सेनिटाइजर के नाम पर मजदूरों के शरीर पर कीटनाशक डाल रही है पुलिस

पैगाम ब्यूरोः कोरोना वायरस संकट की इस घड़ी में जब देश भर से इंसानियत की नयी-नयी मिसालें सामने आ रही हैं. वहीं यूपी पुलिस...

बंगाल सरकार का अभूतपूर्व फैसलाः हर जिले में बनेगा कोरोना अस्पताल

पैगाम ब्यूरोः किसी ने सच ही कहा है कि जो बात बंगाल आज सोचता है, उसके बारे में देश दूसरे दिन सोचता है. केंद्र...

More Articles Like This