कांग्रेस का इल्जामः बीजेपी का समर्थन नहीं करने के कारण बीसीसीआई के कांट्रेक्ट से बाहर हुए धोनी

Must Read

9 महीने बाद दिखेगा कोरोना का एक और रूपः ज्यादा बच्चे होंगे पैदा

पैगाम ब्यूरोः कोरोना वायरस पर काबू पाने की युद्ध स्तर पर कोशिश चल रही है. दुनिया भर के वैज्ञानिक...

क्या भारत कोरोना के तीसरे स्टेज में पहुंच चुका है, सरकार ने दी जानकारी

पैगाम ब्यूरोः देश में कोरोना का आतंक और मरने वालों की तादाद बढ़ती ही जा रही है. इस परिस्थिति...

दारुल उलूम देवबंद ने बढ़ाया मदद का हाथः मदरसे को आसोलेन वार्ड बनाने की पेशकश

पैगाम ब्यूरोः कोरोना वायरस के कहर से निपटने में हर कोई अपने स्तर पर मदद कर रहा है. देश...

पैगाम ब्यूरोः बीसीसीआई ने भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को अपने सालाना कांट्रेक्ट से बाहर कर दिया है. हाल ही में बीसीसीआई ने खिलाड़ियों के साथ हर साल होने वाले कांट्रेक्ट की लिस्ट जारी की, जिसमें धोनी का नाम नहीं है. बीसीसीआई के इस कदम के बाद सोशल मीडिया पर काफी लोगों ने यह इल्जाम लगाया था कि बीजेपी का समर्थन करने के लिए राजी नहीं होने की वजह से ही महेंद्र सिंह धोनी को बीसीसीआई के कांट्रेक्ट से बाहर किया गया है. अब कांग्रेस ने भी यह सनसनीखेज इल्जाम लगाया है. कांग्रेस ने सवाल किया है कि क्या सच में धोनी को बाहर किये जाने के पीछे बीजेपी का हाथ है? अगर यह सच है तो इससे शर्मनाक बात कुछ और नहीं हो सकती है.
बता दें कि झारखंड विधानसभा चुनाव से पहले महेंद्र सिंह धोनी के बीजेपी में शामिल होने की अटकलें लग रही थीं. सूत्रों के मुताबिक बीजेपी के कुछ नेताओं ने धोनी के साथ संपर्क कर उन्हें पार्टी में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया था, लेकिन टीम इंडिया के पूर्व कप्तान इसके लिए राजी नहीं हुए. इस पर बीजेपी की तरफ से उन्हें यह प्रस्ताव दिया गया था कि भले ही वो बीजेपी में शामिल न हों, लेकिन पार्टी के लिए झारखंड विधानसभा चुनाव में प्रचार करें, लेकिन धोनी इस पर भी राजी नहीं हुए.
कांग्रेस ने इल्जाम लगाया है कि धोनी के इस फैसले से नाराज हो कर ही बीजेपी ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के ऊपर दबाव डाल कर उन्हें बोर्ड के सेंट्रल कांट्रेक्ट से बाहर करवा दिया.
कांग्रेस के सीनियर नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री शकील अहमद ने रविवार को ट्वीट कर कहा कि क्या यह सही है कि देश के लिये विश्व कप जीतने के साथ साथ अनेको उपलब्धियाँ हासिल करने वाले महेन्द्र सिंह धोनी का अनुबंध भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने केवल इस लिये रद्द कर दिया कि उन्होंने झारखंड चुनाव के समय भाजपा मे शामिल होने या प्रचार करने से इनकार कर दिया था? हाँ, तो शर्मनाक।
बता दें कि पिछले साल अक्टूबर में बीसीसीआई की नयी कमेटी वजूद में आयी थी. पूर्व कप्तान सौरव गांगुली को बोर्ड का अध्यक्ष और केंद्रीय गृह मंत्री व बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय शाह को सचिव की कुर्सी मिली. इस नियुक्ति पर सवाल उठे थे. कांग्रेस ने इल्जाम लगाया था कि भारत में क्रिकेट की सबसे बड़ी संस्था पर पिछले दरवाजे से बीजेपी ने कब्जा कर लिया है. सौरव गांगुली पर बीजेपी की मदद से अध्यक्ष बनने का इल्जाम लगा. वहीं अमित शाह के बेटे जय शाह की नियुक्ति पर भी खूब सवाल किये गये थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

9 महीने बाद दिखेगा कोरोना का एक और रूपः ज्यादा बच्चे होंगे पैदा

पैगाम ब्यूरोः कोरोना वायरस पर काबू पाने की युद्ध स्तर पर कोशिश चल रही है. दुनिया भर के वैज्ञानिक...

क्या भारत कोरोना के तीसरे स्टेज में पहुंच चुका है, सरकार ने दी जानकारी

पैगाम ब्यूरोः देश में कोरोना का आतंक और मरने वालों की तादाद बढ़ती ही जा रही है. इस परिस्थिति में यह अफवाह तेजी से...

दारुल उलूम देवबंद ने बढ़ाया मदद का हाथः मदरसे को आसोलेन वार्ड बनाने की पेशकश

पैगाम ब्यूरोः कोरोना वायरस के कहर से निपटने में हर कोई अपने स्तर पर मदद कर रहा है. देश के बड़े-बड़े उद्योगपतियों, फिल्मस्टार और...

यूपी पुलिस की हैवानियतः सेनिटाइजर के नाम पर मजदूरों के शरीर पर कीटनाशक डाल रही है पुलिस

पैगाम ब्यूरोः कोरोना वायरस संकट की इस घड़ी में जब देश भर से इंसानियत की नयी-नयी मिसालें सामने आ रही हैं. वहीं यूपी पुलिस...

बंगाल सरकार का अभूतपूर्व फैसलाः हर जिले में बनेगा कोरोना अस्पताल

पैगाम ब्यूरोः किसी ने सच ही कहा है कि जो बात बंगाल आज सोचता है, उसके बारे में देश दूसरे दिन सोचता है. केंद्र...

More Articles Like This