ममता का दावाःखतरनाक खेल है एनपीआर, राज्य एक बार इस कानून को अच्छी तरह से पढ़ लें

0
4482

पैगाम ब्यूरोः पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक बार फिर से नेशनल पॉप्यूलेशन रजिस्टर (NPR) पर एक बार फिर निशाना साधा है. उन्होंने इसे खतरनाक खेल बताते हुए गैर-बीजेपी और उत्तर पूर्व के राज्यों से इस कानून की कवायद में शामिल होने से पहले इसे अच्छी तरह पढ़ने का परामर्श दिया है. उन्होंने दावा किया कि एनपीआर फॉर्म में माता-पिता के जन्मस्थान के विवरण वाला कॉलम हकीकत में एनआरसी की प्रक्रिया का ही रूप है.
ममता बनर्जी ने गैर-बीजेपी और उत्तर पूर्व के राज्यों से अपील करते हुए कहा कि आपको इस कानून को अपने राज्य में लागू करने से पहले इसे अच्छे से पढ़ना चाहिए. इसके बाद ही इसे लागू करने के फैसले पर पहुंचें. उन्होंने दावा किया कि एनपीआर एक खतरनाक खेल है और यह एनआरसी और नागरिकता कानून (सीएए) से पूरी तरह जुड़ा हुआ है. राज्यों को इसे वापस करने के लिए अपने-अपने विधानसभाओं में प्रस्ताव पास करना चाहिए.
सोमवार को सिलिगुड़ी रवाना होते वक्त कोलकाता एयरपोर्ट पर मीडिया से बात करते हुए ममता बनर्जी ने कहा कि हमलोग नागरिकता कानून के खिलाफ जल्द ही पश्चिम बंगाल विधानसभा में प्रस्ताव पारित करेंगे. मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें मीडिया में आयी खबरों से पता चला है कि एनपीआर फॉर्म में माता-पिता के जन्मस्थान से जुड़ा कॉलम भरना अनिवार्य नहीं है. अगर यह अनिवार्य नहीं है तो फिर इस कॉलम को फॉर्म में क्यों रखा गया है? उन्होंने दावा किया कि अगर यह कॉलम एनपीआर फॉर्म में बरकरार रहता है तो इसे न भरने वाले अपने आप बाहर हो जाएंगे. ऐसा खतरा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here