ममता का इल्जामःसिर्फ गैर-बीजेपी शासित राज्यों में नागरिकता कानून को आगे बढ़ा रही है मोदी सरकार

Must Read

9 महीने बाद दिखेगा कोरोना का एक और रूपः ज्यादा बच्चे होंगे पैदा

पैगाम ब्यूरोः कोरोना वायरस पर काबू पाने की युद्ध स्तर पर कोशिश चल रही है. दुनिया भर के वैज्ञानिक...

क्या भारत कोरोना के तीसरे स्टेज में पहुंच चुका है, सरकार ने दी जानकारी

पैगाम ब्यूरोः देश में कोरोना का आतंक और मरने वालों की तादाद बढ़ती ही जा रही है. इस परिस्थिति...

दारुल उलूम देवबंद ने बढ़ाया मदद का हाथः मदरसे को आसोलेन वार्ड बनाने की पेशकश

पैगाम ब्यूरोः कोरोना वायरस के कहर से निपटने में हर कोई अपने स्तर पर मदद कर रहा है. देश...

पैगाम ब्यूरोः पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) प्रमुख ममता बनर्जी ने एक बार फिर नागरिकता कानून, एनआरसी और एनपीआर के मुद्दे पर केंद्र सरकार पर निशाना साधा है. उन्होंने इल्जाम लगाया है कि मोदी सरकार गैर-बीजेपी शासित में नागरिकता कानून को आगे बढ़ाने की कोशिश कर रही है.
ममता बनर्जी ने बुधवार को देश के चंद बेहतरीन पर्यटनस्थलों में से एक दार्जिलिंग में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ एक विशाल रैली निकाली. भानुभक्ता भवन से चौक बाजार तक पांच किलोमीटर लंबी इस रैली में हजारों की तादाद महिला, पुरुष और बच्चे शामिल हुए थे. रैली में शामिल सभी लोग अपने हाथों में तिरंगा लिए हुए थे.
इस मौके पर ममता बनर्जी ने दावा किया कि केंद्र की मोदी सरकार के डर से पश्चिम बंगाल को छोड़ कर देश के सभी राज्य नयी दिल्ली में हुई एनपीआर (NPR) की बैठक में शामिल हुए थे. तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ने कहा कि अमित शाह को साफ करना चाहिए कि क्या किसी व्यक्ति को पहले विदेशी घोषित किया जायेगा और फिर उसके बाद उसे नागरिकता कानून (CAA) के तहत भारत की नागरिकता के लिए आवेदन की अनुमति होगी.
नागरिकता कानून विरोधी इस रैली में लोगों ने पारंपरिक रंग-बिरंगे कपड़े पहने हुए थे. उन्होंने हाथों में अलग-अलग पोस्टर और बैनर भी लिया था. घुमावदार ऊंचे-नीचे पहाड़ी रास्तों पर निकली रैली में नो एनआरसी, नो सीएए, नो एनपीआर के नारे लगाये गये. रैली जिस-जिस रास्ते से होकर गुजरी, उसके दोनों तरफ बड़ी तादाद में लोग खड़े हुए थे.
इस रैली में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के साथ गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (विनय तमांग गुट) के समर्थक भी शामिल हुए थे. कई और स्थानीय दलों ने भी इस रैली को अपना समर्थन दिया था.
बता दें कि ममता बनर्जी नागरिकता कानून, एनआरसी और एनपीआर का लगातार विरोध कर रही हैं. उन्होंने साफ कह दिया है कि पश्चिम बंगाल में नागरिकता कानून और एनआरसी लागू नहीं होगा. वो या राज्य सरकार का कोई प्रतिनिधि एनपीआर की बैठक में भी शामिल नहीं हुआ था. अब 27 जनवरी को पश्चिम बंगाल विधानसभा में नागरिकता कानून के खिलाफ एक प्रस्ताव भी पास किया जायेगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

9 महीने बाद दिखेगा कोरोना का एक और रूपः ज्यादा बच्चे होंगे पैदा

पैगाम ब्यूरोः कोरोना वायरस पर काबू पाने की युद्ध स्तर पर कोशिश चल रही है. दुनिया भर के वैज्ञानिक...

क्या भारत कोरोना के तीसरे स्टेज में पहुंच चुका है, सरकार ने दी जानकारी

पैगाम ब्यूरोः देश में कोरोना का आतंक और मरने वालों की तादाद बढ़ती ही जा रही है. इस परिस्थिति में यह अफवाह तेजी से...

दारुल उलूम देवबंद ने बढ़ाया मदद का हाथः मदरसे को आसोलेन वार्ड बनाने की पेशकश

पैगाम ब्यूरोः कोरोना वायरस के कहर से निपटने में हर कोई अपने स्तर पर मदद कर रहा है. देश के बड़े-बड़े उद्योगपतियों, फिल्मस्टार और...

यूपी पुलिस की हैवानियतः सेनिटाइजर के नाम पर मजदूरों के शरीर पर कीटनाशक डाल रही है पुलिस

पैगाम ब्यूरोः कोरोना वायरस संकट की इस घड़ी में जब देश भर से इंसानियत की नयी-नयी मिसालें सामने आ रही हैं. वहीं यूपी पुलिस...

बंगाल सरकार का अभूतपूर्व फैसलाः हर जिले में बनेगा कोरोना अस्पताल

पैगाम ब्यूरोः किसी ने सच ही कहा है कि जो बात बंगाल आज सोचता है, उसके बारे में देश दूसरे दिन सोचता है. केंद्र...

More Articles Like This