हिरासत में लिए गये बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय और मुकुल रॉय

0
689

पैगाम ब्यूरोः नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के समर्थन में रैली करने पहुंचे बीजेपी के सीनियर नेता कैलाश विजयवर्गीय और मुकुल रॉय को कोलकाता पुलिस ने शुक्रवार को हिरासत में ले लिया. नागरिकता कानून के समर्थन में यह रैली दक्षिण कोलकाता के टॉलीगंज में आयोजित की जा रही थी. जैसे ही रैली शुरू हुई, पुलिस ने बीजेपी के सभी नेताओं को हिरासत में ले लिया.
बीजेपी शुक्रवार को पार्टी के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के नेतृत्व में कोलकाता में नागरिकता कानून के समर्थन में दक्षिण कोलकाता के टॉलीगंज इलाके में अभिनंदन रैली निकाल रही थी. पुलिस ने बीजेपी को रैली निकालने की इजाजत नहीं दी थी. जिसकी वजह से बीजेपी नेताओं को हिरासत में ले लिया गया
इस मौके पर बीजेपी नेता और पूर्व रेल मंत्री मुकुल रॉय ने कहा कि उनकी गिरफ्तारी से बंगाल प्रशासन का असली चेहरा सामने आया है. एक ट्वीट के जरिये पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए मुकुल रॉय ने कहा कि आप (ममता बनर्जी) ने सीएए के समर्थन में रैली में हिस्सा लेने से पहले मुझे और कैलाश विजयवर्गीय को गिरफ्तार करके लोकतंत्र में अपना असली चेहरा और विश्वास दिखाया है. कोलकाता पुलिस हमें पुलिस मुख्यालय ले जा रही है.
कैलाश विजयवर्गीय ने भी हिरासत में लिए जाने के फैसले पर सवाल उठाने के लिए ट्विटर का सहारा लिया और कहा कि उन्हें कोलकाता पुलिस मुख्यालय लाल बाज़ार ले जाया गया है.
नागरिकता कानून के मुद्दे पर पश्चिम बंगाल तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) और बीजेपी के बीच रणक्षेत्र बना हुआ है. जहां टीएमसी इस विवादास्पद कानून का जोरदार विरोध कर रही है. वहीं बीजेपी इसके समर्थन में रैली निकाल रही है.
इस हफ्ते की शुरुआत में, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने सीएए, एनआरसी और एनपीआर को जबरन लागू करने की कोशिश करने के लिए बीजेपी को दोषी ठहराया और इन कानूनों को “काला जादू” बताया था.
एक रैली के दौरान बीजेपी पर करारा प्रहार करते हुए ममता बनर्जी ने कहा कि हमलोग बीजेपी की तरह ‘दुशासन’ की पार्टी नहीं हैं. वे ‘मुहम्मद-बिन-तुगलक’ की संतान हैं और लोगों को देश को इनसे बचाने के लिए एकजुट होना चाहिए.
मुख्यमंत्री ने यह भी दावा किया था कि उनके पश्चिम बंगाल में एनआरसी लागू नहीं किये जाने के आश्वासनों के बावजूद, पश्चिम बंगाल में एनआरसी के डर से 30 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here