सीएए के प्रदर्शनकारियों पर फिर बरसी यूपी पुलिस की लाठियां

Must Read

अब 12 अप्रैल को होगा नया ड्रामा, 5 मिनट खड़े हो कर पीएम को सम्मान दिये जाने की तैयारी

पैगाम ब्यूरोः कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ रहे चिकित्सा कर्मियों को सम्मान देने के लिए 22 मार्च को ताली...

तबलीगी जमात के लोग दूसरों के साथ नहीं कर सकते बदसलूकीः देखें वीडियो

पैगाम ब्यूरोः मीडिया का एक वर्ग और भगवा संगठन तबलीगी जमात को शैतान की जमात के रुप में पेश...

किसानों की जीविका खतरे में, फसलों की कटाई के लिए लॉकडाउन में ढील दे सरकारः राहुल गांधी

पैगाम ब्यूरोः कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने फसलों की कटाई को लिए लॉकडाउन में ढील देने की...

पैगाम ब्यूरोः नागरिकता कानून (सीएए) का विरोध करने वालों पर यूपी पुलिस ने फिर से लाठियां बरसायी हैं. उत्तर प्रदेश के अलगीढ़ में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारियों पर पुलिस ने लाठी चार्ज किया और आंसू गैस के गोले दागे. पुलिस दावा कर कर रही है कि प्रदर्शनकारियों ने उस पर पत्थर फेंके थे, जिसके बाद झड़प हो गयी. यूपी पुलिस के दावे के मुताबिक प्रदर्शनकारियों की भीड़ ने पुलिस की एक गाड़ी में तोड़फोड़ की है. इस घटना में कुछ पुलिस वालों के घायल होने का भी दावा किया जा रहा है.

स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए उत्तर प्रदेश पुलिस का एक रैपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ) तैनात किया गया है. हिंसा की यह घटना अलीगढ़ के उपरकोट कोतवाली क्षेत्र के आसपास के दो इलाके में हुई.

गौरतलब है कि कि अलीगढ़ में पिछले लगभग एक महीने से नागरिकता कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन चल रहा है. शुक्रवार को अलीगढ़ में बारिश हुई थी. खराब मौसम को देखते हुए प्रदर्शनकारियों ने प्रदर्शनस्थल पर टेंट लगाने की इजाजत मांगी थी, लेकिन पुलिस प्रशासन ने प्रदर्शनकारियों को टेंट लगाने की इजाजत देने से इनकार कर दिया. जिसके बाद यह घटना हुई. इस घटना के बाद अलीगढ़ में पूरे 24 घंटे के लिए इंटरनेट सर्विस बंद कर दी गयी है.

घटना के बाद अलीगढ़ के डीएम चंद्र भूषण सिंह ने बताया कि स्थिति नियंत्रण में है. उन्होंने दावा किया कि प्रदर्शनकारियों ने सड़क को पूरी तरह से बंद कर दिया था. पुलिस सड़क को खुलवाने की कोशिश कर रही थी. तभी अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय की छात्राओं ने उन्हें भड़कया. जिसके बाद लोगों ने पुलिस के ऊपर पत्थरबाजी शुरू कर दिया.

गौरतलब है कि सीएए के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान यूपी पुलिस का बर्बर रवैया दुनिया के सामने आ चुका है. यूपी में 25 से ज्यादा प्रदर्शनकारियों की मौत हो चुकी है. पहले तो पुलिस ने किसी भी प्रदर्शनकारी की मौत पुलिस फायरिंग से होने की बात मानने से इनकार कर दिया था, लेकिन जब पुलिस के खूनी खेल का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने लगा, तब जा कर यूपी पुलिस ने फायरिंग से ‘एक’ व्यक्ति के मरने की बात स्वीकार की. हालांकि मुख्यमंत्री आदित्यनाथ तो आज तक इस बात पर कायम हैं कि यूपी पुलिस ने फायरिंग नहीं की है. अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के छात्रों पर भी पुलिस ने जो अत्याचार किया और उनकी जिस तरह से बेरहमी से पिटाई की. उसके वीडियो भी सोशल मीडिया पर भरे पड़े हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

अब 12 अप्रैल को होगा नया ड्रामा, 5 मिनट खड़े हो कर पीएम को सम्मान दिये जाने की तैयारी

पैगाम ब्यूरोः कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ रहे चिकित्सा कर्मियों को सम्मान देने के लिए 22 मार्च को ताली...

तबलीगी जमात के लोग दूसरों के साथ नहीं कर सकते बदसलूकीः देखें वीडियो

पैगाम ब्यूरोः मीडिया का एक वर्ग और भगवा संगठन तबलीगी जमात को शैतान की जमात के रुप में पेश कर रहे हैं. इस काम...

किसानों की जीविका खतरे में, फसलों की कटाई के लिए लॉकडाउन में ढील दे सरकारः राहुल गांधी

पैगाम ब्यूरोः कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने फसलों की कटाई को लिए लॉकडाउन में ढील देने की मांग की है. वायनाड के...

49 दिनों तक चल सकता है लॉकडाउनः मुख्यमंत्री ने किया इशारा

पैगाम ब्यूरोः देश में चल रहे लॉकडाउन की मियाद 14 अप्रैल को पूरी हो रही है, लेकिन शायद इस दिन लॉकडाउन खत्म नहीं होगा....

कोरोना के नाम पर सांप्रदायिक ध्रुवीकरण को दिया जा रहा है बढ़ावाः सीताराम येचुरी

पैगाम ब्यूरोः सीपीआईएम (माकपा) के महासचिव सीतारम येचुरी ने आरोप लगाया है कि कोरोना वायरस के नाम पर देश में सांप्रदायिक ध्रुवीकरण को बढ़ाया...

More Articles Like This