कोरोना के नाम पर सांप्रदायिक ध्रुवीकरण को दिया जा रहा है बढ़ावाः सीताराम येचुरी

Must Read

श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में 7 लोगों की मौत पर भड़के पप्पू यादवः कहा, रेलमंत्री पर हो हत्या का मामला दर्ज

पैगाम ब्यूरोः मोदी सरकार लॉकडाउन के नाम पर देश के गरीबों और मजदूरों के साथ भयानक खेल खेल रही...

बीजेपी सरकार का श्रमिक प्रेमः टॉयलेट में रखा जा रहा है मजदूरों को

पैगाम ब्यूरोः नोटबंदी में भी देश के गरीबों और आमलोगों का बुरा हाल हुआ था, लेकिन लॉकडाउन ने सबकुछ...

गांजा पी कर सो गया है सुशासन

पैगाम ब्यूरोः सुशासन बाबू नीतीश कुमार बिहार में अपराध पर नकेल कसने में नाकाम साबित हो रहे हैं. लॉकडाउन...

पैगाम ब्यूरोः सीपीआईएम (माकपा) के महासचिव सीतारम येचुरी ने आरोप लगाया है कि कोरोना वायरस के नाम पर देश में सांप्रदायिक ध्रुवीकरण को बढ़ाया जा रहा है. इस संबंध में उन्होंने मंगलवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखकर कहा कि इस तरह के प्रयास पर रोक लगाने की जरूरत है.

माकपा महासचिव ने कहा कि जब देश को ऐसे शत्रु के खिलाफ एकजुट रखने की जरूरत है, जो धर्म, जाति और वर्ग के आधार पर लोगों को शिकार नहीं बना रहा है, हम आपसे संविधान के संरक्षक होने के नाते उम्मीद करते हैं कि आप देश में सांप्रदायिक ध्रुवीकरण को बढ़ावा देने की इजाजत नहीं देंगे.

सीताराम येचुरी ने दिल्ली में तबलीगी जमात मरकज की घटना का जिक्र करते हुये कहा कि एक घटना को बहाना बना कर कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलाने में एक वर्ग विशेष को जिम्मेदार ठहराने की कोशिश की जा रही है, यह बेहद चिंताजनक है.

हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि तबलीगी जमात के आयोजकों ने गैरजिम्मेदारी का सबूत दिया है, लेकिन एक घटना के हवाले से पूरे मुस्लिम समुदाय को निशाने पर लेना ठीक नहीं है. येचुरी ने राष्ट्रपति से इस स्थिति को रोकने का अनुरोध करते हुये कहा कि लोगों को एकजुट किये बगैर कोरोना वायरस के खिलाफ चल रही लड़ाई में कामयाबी नहीं मिल सकती है.

उन्होंने कोरोना वायरस के नाम पर नया ‘‘पीएम केयर फंड’’ बनाने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फैसले के औचित्य पर भी सवाल उठाते हुये कहा कि जब ‘‘प्रधानमंत्री राष्ट्रीय आपदा राहत कोष’’ पहले से ही मौजूद है तब फिर एक और कोष बनाने के फैसले ने सरकार की नीयत पर शक पैदा कर दिया है.

कोरोना संकट से निपटने के लिये सरकार द्वारा अपनायी गयी रणनीति को विफल बताते हुये सीताराम येचुरी ने कहा कि बगै किसी पूर्व तैयारी के लॉकडाउन घोषित करने से लाखों गरीब प्रवासी मजदूरों का जीवन ऐसे गंभीर संकट में पड़ गया है, जिससे वे लंबे वक्त तक उबर नहीं सकेंगे. उन्होंने अब तक अस्पतालों में चिकित्सा उपकरणों और चिकित्सा कर्मियों के लिये सुरक्षा उपकरणों की आपूर्ति सामान्य नहीं हो पाने पर भी चिंता व्यक्त करते हुये सरकार की रणनीति को खोखला करार दिया.

दूसरी तरफ माकपा पोलित ब्यूरो सदस्य बृंदा करात ने आज केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन को पत्र लिखकर देश में कोरोना वायरस संकट से निपटने के लिये स्वास्थ्य उपकरणों की कमी पर चिंता जताते हुए जल्द से जल्द इनकी उपलब्धता सुनिश्चित करने की मांग की.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में 7 लोगों की मौत पर भड़के पप्पू यादवः कहा, रेलमंत्री पर हो हत्या का मामला दर्ज

पैगाम ब्यूरोः मोदी सरकार लॉकडाउन के नाम पर देश के गरीबों और मजदूरों के साथ भयानक खेल खेल रही...

बीजेपी सरकार का श्रमिक प्रेमः टॉयलेट में रखा जा रहा है मजदूरों को

पैगाम ब्यूरोः नोटबंदी में भी देश के गरीबों और आमलोगों का बुरा हाल हुआ था, लेकिन लॉकडाउन ने सबकुछ पीछे छो़ड़ दिया है. मजदूरों...

गांजा पी कर सो गया है सुशासन

पैगाम ब्यूरोः सुशासन बाबू नीतीश कुमार बिहार में अपराध पर नकेल कसने में नाकाम साबित हो रहे हैं. लॉकडाउन के दौरान भी बिहार में...

राहुल गांधी ने कहाः फेल हो चुका है लॉकडाउन, आगे की रणनीति बतायें प्रधानमंत्री

पैगाम ब्यूरोः देश में जारी लॉकडाउन के दौरान कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को चौथी बार मीडिया से बात की. राहुल...

अफरीदी का दावाः जिस अभिनंदन को पाकिस्तान ने नीचे गिराया, भारत ने उसे हीरो बना दिया

पैगाम ब्यूरोः पाकिस्तान के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी ने कहा है कि पाकिस्तान की फौज ने जिस अभिनंदन को हवा से नीचे गिरा दिया...

More Articles Like This