अमेरिका के सेंट पॉल सिटी कौंसिल ने बीजेपी को किया इस्लाम विरोधी घोषित

0
13465

पैगाम ब्यूरोः अमेरिका में रहने वाले ज्यादातर भारतीय मूल के लोगों की पहली पसंद बीजेपी और नरेंद्र मोदी हैं, लेकिन अमेरिका के मूल निवासियों की नजर में इनकी तस्वीर अच्छी नहीं है. अमेरिका के ज्यादातर मूल निवासी बीजेपी को मुस्लिम विरोधी पार्टी के रुप में ही देखते हैं.

इसका सबूत पेश किया है अमेरिका के सेंट पॉल शहर ने. सेंट पॉल सिटी अमेरिका के मिनेसोटा राज्य की राजधानी भी है. मिनेसोटा सिटी कौंसिल ने एक प्रस्ताव पारित कर बीजेपी के नेतृत्व वाली भारतीय सरकार को इस्लाम विरोधी (इस्लामोफोबिक) घोषित किया है.

साहान जनरल की एक रिपोर्ट के मुताबिक, इस प्रस्ताव के जरिये नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और एनआरसी का विरोध किया गया. सीएए और एनआरसी के खिलाफ प्रस्ताव पारित करने वाला सेंट पॉल सिटी अमेरिका का चौथा शहर बन गया है. प्रस्ताव 5-0 वोट के साथ पारित किया गया.

प्रस्ताव में कहा गया कि “सिटी कौंसिल भारत में नागरिकों के राष्ट्रीय रजिस्टर (एनआरसी) और नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) का विरोध करती है. सेंट पॉल सिटी कौंसिल के मुताबिक इन कानूनों की नीतियां “मुस्लिमों, उत्पीड़ित जातियों, महिलाओं, आदिवासी और एलजीबीटीक्यू समुदाय के साथ भेदभाव करती हैं.

प्रस्ताव में कहा गया कि बीजेपी नेतृत्व वाली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की बहिष्कृत विचारधारा हावी है. आरएसएस मुसलमानों के खिलाफ भेदभाव को बढ़ावा देता है.

इसमें कहा गया कि नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) दिसंबर 2019 को बीजेपी सरकार के नेतृत्व में पारित हुआ और प्रधानमंत्री मोदी मुसलमानों के साथ भेदभाव करते हैं. प्रस्ताव में कहा गया है कि ये कानून जो पड़ोसी देशों से धार्मिक उत्पीड़न से भागे शरणार्थियों की मदद करने का दावा करता है, लेकिन उन लाखों मुसलमानों के खिलाफ भेदभाव करता है जो अफगानिस्तान, बांग्लादेश और अन्य मुस्लिम देशों में युद्ध से भाग कर भारत आये हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here