तलाश गुमशुदा जनसेवक ज्योतिरादित्य सिंधिया, ग्वालियर में लगे पोस्टर

0
288

पैगाम ब्यूरोः मध्य प्रदेश के लोगों की सेवा करने के लिए कांग्रेस छोड़ कर बीजेपी में गये महाराज ज्योतिरादित्य सिंधिया लापता हो गये हैं. कोरोना संकट में जब मुसीबत में फंसे लोगों को एक-एक तिनके का सहारा लेना पड़ रहा है, उस हालत में जनसेवक सिंधिया का कोई पता नहीं चल रहा है. हद तो ये है कि वो अपने गढ़ ग्वालियर में भी नजर नहीं आ रहे हैं. जिसके चलते उनकी तलाश के लिए ग्वालियर में तलाश गुमशुदा का पोस्टर लग गया है.

रविवार को ग्वालियर में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने ज्योतिरादित्य सिंधिया की गुमशुदगी वाले पोस्टर लगा दिये. जिससे शहर में सियासी हड़कंप मच गया.

ग्वालियर के महल गेट, गस्त का ताजिया सहित कई जगहों पर सिंधिया की गुमशुदगी के पोस्टर नजर आये. कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता सिद्धार्थ सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने महल गेट पर सिंधिया की गुमशुदगी के पोस्टर लगाये. नदी गेट और वहां से गुजर रही कुछ गाड़ियों पर भी सिंधिया की गुमशुदगी के पोस्टर लगा दिये गये.

पोस्टर में लिखा था कि कांग्रेस में रहते सिंघिया जनसेवा नहीं कर पा रहे थे, लेकिन बीजेपी में जाने के बाद भी सिंधिया जनसेवा करते नजर नहीं आए हैं. लिहाजा ज्योतिरादित्य सिंधिया को तलाश कर लाने वाले को 5100 रुपए का इनाम दिया जायेगा.

पोस्‍टर लगाने की खबर लगते ही सिंधिया समर्थक बीजेपी नेता नदी और महल गेट पहुंचे और वहां लगे पोस्टर फाड़ दिये. पुलिस भी फौरन हरकत में आ गयी और धारा 144 के उल्लंघन का मामला दर्ज कर प्रदेश प्रवक्ता सिद्धार्थ सिंह को गिरफ्तार कर लिया.

कांग्रेस नेता की गिरफ्तारी से मध्य प्रदेश पुलिस का दोहरा चरित्र सामने आ गया. हाल ही में बीजेपी समर्थकों ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और उनके सांसद बेटे नकुलनाथ के गायब होने के पोस्टर लगाये थे, लेकिन पुलिस ने किसी बीजेपी कार्यकर्ता को गिरफ्तार करना तो दूर कोई मामला तक दर्ज नहीं किया था. लेकिन सिंधिया का पोस्टर लगते ही आनन-फानन में पुलिस हरकत में आ गयी और कांग्रेस नेता को गिरफ्तार कर लिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here