logo

National

Blog

बकरीद पर न तो कुर्बानी की फोटो लें और न ही सोशल मीडिया पर अपलोड करें

पैगाम ब्यूरोः देश के मौजूदा हालात को देखते हुए मुस्लिम उलेमाओं ने मुसलमानों को सलाह दी है कि वो बकरीद के के मौके पर कुर्बानी की फोटो या वीडियो न लें और न ही उसे फेसबुक, व्हाट्सअप और दूसरे सोशल मीडिया पर अपलोड करें.

देश के मशहूर आलिम और लखनऊ की ऐशबाग ईदगाह के इमाम मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने बकरीद के मौके पर किसी भी प्रकार की अप्रिय घटनाओं को रोकने के लिए मुसलमानों को सात सलाह दी है.

मौलाना फरंगी महली ने मुसलमानों से कहा है कि वो उन पशुओं की कुर्बानी न दें, जो प्रतिबंधित हैं. उन्होंने कुर्बानी देते वक्त किसी तरह की तस्वीर या वी़डियो नहीं बनाने का भी मश्विरा दिया है. उन्होंने कहा कि ऐसी तस्वीरों से गलत संदेश जाता है. बच्चों और औरतों को ये तस्वीरें खौफजदा कर सकती हैं. अगर किसी ने ऐसी तस्वीर या वीडियो कर भी ली तो उसे सोशल मीडिया पर कतई पोस्ट या शेयर न करें.

मौलाना ने कहा कि ऐसा करने से लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंच सकती है. इस्लाम हमें किसी की भी भावनाओं को ठेस पहुंचाने की इजाजत नहीं देता है.

उन्होंने कहा कि किसी भी सड़क या गली में कुर्बानी ने करें. ऐसा करने से समस्या हो सकती है और ये इस्लाम के खिलाफ है. मौलाना ने मुसलमानों से कहा है कि कुर्बानी के बाद जानवरों के अवशेषओं को सड़क पर न फेंकें और न ही सड़कों और नालियों में कुर्बानी का खून बहायें. 


* आप सभी से आवेदन है कि प्लीज पैगाम के पेज को लाइक करें और अपने साथियों को भी लाइक करने के लिए कहें. मेहरबानी होगी. खबरों को पढ़ कर शेयर करें, ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों तक खबर पहुंच सके. https://www.facebook.com/paighamtelevision/

(धन्यवाद)