logo

National

Blog

झारखंड पुलिस का कारनामाः किसी ने नहीं की तबरेज की हत्या, चार्जशीट से हटा दिया धारा 302

पैगाम ब्यूरोः झारखंड में जिस तबरेज अंसारी को लोगों की भीड़ ने चोर के शक में पीट-पीट कर मार डाला था. इस मारपीट का वीडियो दुनिया भर में वायरल हुआ था. उस घटना में झारखंड पुलिस किसी को भी तबरेज का हत्यारा नहीं मानती है. इसलिए पुलिस ने तबरेज की मौत के मामले में 11 आरोपियों के खिलाफ दायर की गयी चार्जशीट से हत्या की धारा यानी दफा 302 हटा दिया है.

पुलिस ने पिछले महीने धारा 304 (गैर-इरादतन हत्या) के तहत चार्जशीट दाखिल किया. जिसमें पुलिस ने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चलता है कि तबरेज की मौत दिल का दौरा पड़ने से हुई थी. पुलिस ने यह दावा भी किया है कि तबरेज की मौत पूर्व नियोजित हत्या नहीं थी.

आपको बता दें कि पहले पुलिस ने तबरेज अंसारी की पत्नी की शिकायत पर आरोपियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया था, जिसे फाइनल चार्जशीट में हटा दिया गया है. सरायकेला-खरसावां के एसपी कार्तिक एस ने कहा कि हमने दो कारणों से धारा 304 के तहत आरोप पत्र दायर किया. पहली वजह यह है कि तबरेज अंसारी मौके पर नहीं मरा और गांव वालों का अंसारी को मारने का कोई इरादा नहीं था.

आपको बता दें कि पिछले 18 जून को झारखंड के सरायकेला खरसावां जिले के धातकीडीह गांव में तबरेज अंसारी की भीड़ ने चोरी के शक में खंभे से बांध कर डंडों से पिटाई कर दी थी. उसे ‘जय श्री राम’ और ‘जय हनुमान’ के नारे लगाने के लिये भी मजबूर किया गया था. इसके बाद पुलिस ने गांव वालों के खिलाफ कार्रवाई करने के बजाय तबरेज को ही चोरी के आरोप में गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया था. जहां बाद में उसकी मौत हो गयी थी.


* आप सभी से आवेदन है कि प्लीज पैगाम के पेज को लाइक करें और अपने साथियों को भी लाइक करने के लिए कहें. मेहरबानी होगी. खबरों को पढ़ कर शेयर करें, ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों तक खबर पहुंच सके. https://www.facebook.com/paighamtelevision/

(धन्यवाद)