logo

National

Blog

मॉब लिंचिंग पर प्रधानमंत्री को खत लिखने वालों के समर्थन में आयीं 180 हस्तियां, कहा अब तो रोज बोलेंगे

पैगाम ब्यूरोः देश में मॉब लिंचिंग की घटनाओं के खिलाफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खत लिखने वाले 49 लोगों पर देशद्रोह का मामला दर्ज होने के खिलाफ देश की 180 हस्तियां मैदान में उतर गयी हैं. फिल्मस्टार नसीरउद्दीन शाह, इतिहासकार रोमिला थापर समेत इन तमाम हस्तियों ने इस कार्रवाई की निंदा करते हुए सवाल किया है कि प्रधानमंत्री को खत लिखना देशद्रोह कैसे हो सकता है.

एक पत्र जारी कर इन 180 नामचीन हस्तियों ने कहा है कि सांस्‍कृतिक समुदाय में हमारे 49 सहयोगियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. केवल इसलिए क्‍योंकि समाज के जिम्‍मेवार नागरिक के तौर पर उन्‍होंने आवाज उठायी. देश में हो रही मॉब लिंचिंग की घटनाओं पर चिंता जताते हुए उन्‍होंने प्रधानमंत्री को खुले तौर पर पत्र लिखा था. क्‍या इसे राजद्रोह का मामला कहेंगे? क्या अदालतों का दुरुपयोग कर लोगों की आवाज को चुप कराना प्रताड़ना नहीं है?

खत में लिखा गया है कि हम सभी, भारतीय सांस्कृतिक समुदाय के सदस्यों के रूप में, अंतरात्मा के नागरिक के रूप में, इस तरह के उत्पीड़न की निंदा करते हैं. हम अपने सहयोगियों द्वारा प्रधानमंत्री को लिखे गए पत्र के प्रत्येक शब्द का समर्थन करते हैं और इसीलिए हम उनके पत्र को एक बार फिर यहां साझा करते हैं. सांस्कृतिक, शैक्षणिक और कानूनी समुदायों से जुड़े लोगों से भी ऐसा करने की अपील करते हैं. यही कारण है कि हम में से ज्यादात्तर हर रोज बात करेंगे.

इस पत्र पर हस्‍ताक्षर करने वालों में नसीरउद्दीन शाह व रोमिला थापर के अलावा लेखक अशोक वाजपेयी, जेरी पिंटो, इरा भास्‍कर, कवि जीत थायिल, लेखक शम्‍सुल इस्‍लाम, संगीतकार टीएम कृष्‍ण और फिल्मकार सबा दिवान शामिल हैं.

बता दें कि जुलाई महीने में 49 लोगों ने प्रधानमंत्री मोदी को खत लिखते हुए देश में मॉब लिंचिंग की घटनाओं पर चिंता जाहिर की थी. इन 49 हस्तियों में फिल्मकार मणिरत्नम, अनुराग कश्यप, श्याम बेनेगल, अभिनेता सौमित्र चटर्जी और गायक शुभा मुद्गल इत्यादि शामिल थे. इन सबके खिलाफ 3 अक्टूबर को बिहार के मुजफ्फरपुर में एफआईआर दर्ज की गयी थी, जिसमें देशद्रोह, सार्वजनिक उपद्रव, शांति भंग करने के इरादे से धार्मिक भावनाओं को आहत करने जैसे आरोप हैं.


* आप सभी से आवेदन है कि प्लीज पैगाम के पेज को लाइक करें और अपने साथियों को भी लाइक करने के लिए कहें. मेहरबानी होगी. खबरों को पढ़ कर शेयर करें, ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों तक खबर पहुंच सके. https://www.facebook.com/paighamtelevision/(धन्यवाद)