logo

National

Blog

नकवी के घर हुई मुस्लिम उलेमाओं और आरएसएस नेताओं की बैठक

पैगाम ब्यूरोः बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि विवाद पर फैसला जल्द ही आने वाला है. जिसे लेकर देश भर में गहमागहमी बनी हुई है. अयोध्या समेत देश के सभी संवेदनशील जगहों पर अभी से सुरक्षा का इंतजाम कर दिया गया है. सरकार फेसबुक, ट्वीटर जैसे सोशल नेटवर्किंग साइट पर नजर रख रही है. इन हालात के बीच आज केंद्रीय मंत्री व बीजेपी नेता मुख्तार अब्बास नकवी के घर पर एक बैठक हुई. जिसमें आरएसएस के नेता, मुस्लिम उलेमा और मुस्लिम संगठनों के प्रतिनिधि शामिल हुए.

इस बैठक में ऑल इंडिया मुस्लिम मजलिस-ए-मुशावरत के प्रमुख नावेद हामिद, जमीयत उलेमा-ए-हिंद के अध्यक्ष मौलाना अरशद मदनी,   मरकजी जमीयत अहले हदीश हिंद के प्रमुख मौलाना असगर अली इमाम सलफी, ऑल इंडिया उलेमा एंड मशायख बोर्ड के मौलाना अशरफ किछौछवी, अखिल भारतीय सूफी सज्जादनशीं परिषद के अध्यक्ष सैयद नसरुद्दीन चिश्ती, शिया धर्मगुरु मौलाना सैयद कल्बे जावेद, पूर्व नौकरशाह वजाहत हबीबुल्ला, फिल्म निर्देशक मुजफ्फर अली, पूर्व सांसद शाहिद सिद्दीकी समेत कई उलेमा और मुस्लिम समाज के बुद्धिजीवी शामिल हुए.

बैठक के बाद मौलाना सैयद कल्बे जावेद ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट जो भी फैसला सुनायेगा, हम सभी को उसका सम्मान करना चाहिए. हम सभी से अपील करेंगे कि शांति बनाये रखें.

वहीं सैयद नसरुद्दीन चिश्ती ने कहा कि हर कोई इस बात पर एकमत था कि सभी धर्मों के लोगों को सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करना चाहिए. हम सभी दरगाहों को गद्दीनशीनों को लोगों से यह अपील करने के लिए कहेंगे कि अफवाहों और झूठी खबरों पर विश्वास न करें.


* आप सभी से आवेदन है कि प्लीज पैगाम के पेज को लाइक करें और अपने साथियों को भी लाइक करने के लिए कहें. मेहरबानी होगी. खबरों को पढ़ कर शेयर करें, ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों तक खबर पहुंच सके. https://www.facebook.com/paighamtelevision/(धन्यवाद)