बीजेपी अध्यक्ष नड्डा की बेटे की शादी में दिखे भगोड़े गोरखा नेता

0
221

पैगाम ब्यूरोः बीजेपी देशभक्ति, राष्ट्रभक्ति और कानून के शासन की बात करती है. बीजेपी के नेता हर किसी को देशभक्ति को पैमाने पर तोलने की कोशिश करते हैं. बीजेपी समर्थकों के लिए हर वो व्यक्ति देशद्रोही है, जो बीजेपी और प्रधानमंत्री मोदी का विरोधी है. लेकिन सोशल मीडिया पर वायरल हो रही एक फोटो बीजेपी की देशभक्ति और कानून के शासन के दावे पर सवाल खड़े कर रही है.

सोशल मीडिया पर गोरखा जनमुक्ति मोर्चा नेता बिमल गुरुंग और रोशन गिरि का एक फोटो खूब वायरल हो रहा है. जिसमें वह बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के साथ नजर आ रहे हैं. यह तस्वीर बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के बेटे की शादी समारोह का है, जिसमें दोनों गोरखा नेता जेपी नड्डा और उनके बेटे-बहू के साथ खड़े दिखायी दे रहे हैं. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के बेटे की शादी पिछले महीने हुई थी.

किसी के साथ फोटो में नजर आना गलत नहीं है, लेकिन यह आम मामला नहीं है. गोरखा जनमुक्ति मोर्चा नेता बिमल गुरुंग और रोशन गिरि पर पश्चिम बंगाल में 140 केस दर्ज है. जिसमें से ज्यादातर गैरजमानती मामले हैं. इसमें एक सब-इंस्पेक्टर की हत्या का भी केस है. दोनों लगभग दो साल से भी ज्यादा वक्त से फरार चल रहे हैं. इन दोनों को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है. लेकिन जिसे बंगाल पुलिस खोज रही है, वो बीजेपी अध्यक्ष के बेटे की शादी में मेहमाननवाजी का लुत्फ उठाता नजर आ रहा है.

बता दें कि अलग गोरखालैंड राज्य की मांग पर गोरखा जनमुक्ति मोर्चा ने साल 2017 में दार्जिलिंग और आसपास के इलाकों में भारी हिंसक प्रदर्शन किया था. उस वक्त मुख्यमंत्री ममता बनर्जी दार्जिलिंग में ही अपनी केबिनेट की बैठक कर रही थीं. हिंसक प्रदर्शन के कारण पूरा पश्चिम बंगाल मंत्रिमंडल दार्जिलिंग में फंस गया था. बड़ी मुश्किल से उन्हें वहां से निकाला गया था. इस प्रदर्शन के दौरान बिमल गुरुंग और रौशन गिरि के खिलाफ आईपीसी, सीआरपीसी, आर्म्स एक्ट समेत कई धाराओं में 126 मामलों में केस दर्ज है. सिर्फ यही नहीं, बिमल गुरुंग का नाम एनआईए एक्ट के अंतर्गत 14 मामलों में भी है.

फोटो सामने आने पर खुद रौशन गिरी ने इसकी पुष्टि की है. अंग्रेजी अख्बार हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक उन्होंने कबूल किया है कि हां मैं बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के बेटे की शादी में गया था.

बता दें कि बीजेपी ने 2019 के लोकसभा चुनाव में तीसरी बार गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के समर्थन से पश्चिम बंगाल की दार्जिंलिंग सीट जीती है. हालांकि, गोरखा जनमुक्ति मोर्चा अब टूट चुका है. पार्टी का एक बड़ा हिस्सा बिमल गुरूंग से अलग हो कर राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का समर्थन करने लगा है.

इस फोटो के सामने आने के बाद पश्चिम बंगाल में राजनीति गरमा गयी है. तृणमू कांग्रेस ने इल्जाम लगाया है कि जो लोग राज्य को तोड़कर अलग गोरखालैंड बनाने की की मांग कर रहे हैं. पुलिस जिनकी तलाश कर रही है, बीजेपी उन्हें शरण दे रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here