सिर्फ लॉकडाउन से खत्म नहीं होगा कोरोना, राज्यों को अधिक अधिकार दे केंद्रः राहुल गांधी

0
340

पैगाम ब्यूरोः कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि सिर्फ लॉकडाउन से कोरोना वायरस खत्म नहीं होगा, बल्कि इसके लिए और भी कड़े उपाय करने होंगे. उन्होंने आज कोरोना के मुद्दे पर वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये मीडिया से बात की. राहुल गांधी ने कहा कि लॉकडाउन किसी भी हाल में कोरोना का स्थायी हल नहीं है. लॉकडाउन एक पॉज (रुकने) बटन की तरह है. हम अब एक स्तर पर पहुंच गये हैं, जहां इमरजेंसी जैसे हालात है. भारत को एकजुट हो कर इस बीमारी से लड़ना होगा.

राहुल गांधी ने कहा कि हम एक गंभीर स्थिति में हैं, सभी राजनीतिक दलों को एक साथ आना होगा. साथ ही केंद्र को राज्यों को ज्यादा अधिकार देने चाहिए और गरीब लोगों को आर्थिक मदद देनी चाहिए.

उन्होंने कहा कि पिछले दो महीने में मैंने कई एक्सपर्ट्स से बात की है, लॉकडाउन, कोरोना संकट का समाधान नहीं है. जब लॉकडाउन से बाहर आयेंगे, तो इसका असर फिर दिखना शुरू हो जाएगा. लॉकडाउन सिर्फ आपको एक वक्त देगा, ताकि आप तैयारी कर सको.

कांग्रेस नेता ने कहा कि कोरोना के लिए टेस्टिंग जिस पैमाने पर होना चाहिये, नहीं हो रहा है. इसके ख़िलाफ लड़ाई कमजोर न हो. प्रधानमंत्री राज्यों के मुख्यमंत्रियों को अधिक ताकत दें. जिला स्तर, ब्लॉक स्तर पर लड़ाई ज़्यादा कारगर है. मेरे क्षेत्र केरल के वायनाड में भी यही कारगर हुआ.

उन्होंने कहा कि टेस्ट नहीं किये तो लॉकडाउन ख़त्म होने के बाद फिर उसी हालत में पहुंचने का ख़तरा है. फिर लॉकडाउन करना पड़ेगा. ये लड़ाई अभी शुरू हुई है. अभी जीत का ऐलान करना जल्दबाज़ी होगी. सारे हथियार अभी नहीं ख़त्म करने होंगे, क्योंकि आने वाले वक्त में अर्थव्यवस्था पर बड़ा आघात होने जा रहा है.

राहुल गांधी ने कहा कि इस रोग से लड़ने के लिए मेडिकल और अर्थव्यवस्था दोनों मोर्चे पर लड़ना होगा. खाद्य क्षेत्र को मजबूत कीजिए. ज़रूरतमंदों को राशन कार्ड दीजिए. बेरोजगारी आने वाली है. उससे लड़ने की तैयारी कीजिए. सिर्फ लॉकडाउन के जरिए वायरस खत्म करते-करते कहीं अर्थव्यवस्था न पूरी तरह चौपट कर लें. ये महामारी मैनेज हो सकता है खत्म नहीं हो सकता.

राहुल गांधी ने कहा कि बहुत सारे मुद्दों पर मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से असहमत हूं, लेकिन अब लड़ने का वक्त नहीं है. एकजुट होकर वायरस से लड़ने का समय है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here