मुस्लिम दुश्मनी में भगवा संगठनों के भी बाप बन गये केजरीवालः जमातियों को बनाया बंदी

0
14815

पैगाम ब्यूरोः कोरोना के नाम पर मुसलमानों पर अत्याचार की हदें टूटती जा रही है. एक तरफ तो देश भर में उन पर हमले हो रहे हैं. उनका आर्थिक बहिष्कार किया जा रहा है. गांवों, क्सबों में उनके प्रवेश पर रोक लगायी जा रही है. दूसरी तरफ दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने तो मुस्लिम दुश्मनी में बीजेपी और आरएसएस को भी पीछे छोड़ दिया है.

दिल्ली में मुसलमानों के खिलाफ हुए भयावह दंगे में केजरीवाल, उनकी सरकार का मंत्री या कोई विधायक कहीं नजर नहीं आया. न दंगाईयों के खिलाफ कोई केस दर्ज करवाया. आम आदमी पार्टी ने इस दंगे के लिए भगवा संगठनों के खिलाफ एक भी लफ्ज नहीं कहा, लेकिन कोरोना का मामला सामने आते ही केजरीवाल, तबलीगी जमात और उसके मरकज पर चढ़ दौड़े. केजरीवाल के आदेश पर फौरन मरकज और तबलीगी जमात के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया. जिसमें उन्हें तंग करने के लिए ढेरा धाराएं लगायी गयी हैं.

अब केजरीवाल सरकार का सबसे घिनौना रुप सामने आया है. उसने क्वरंटाइन के नाम पर मरकज के लोगों को बंदी बना लिया है. उनका कोरोना टेस्ट नेगेटिव आने के बावजूद उन्हें कैद कर के रखा गया है. एक महीने से ज्यादा का वक्त हो गया है. जमातियों का क्वरंटाइन खत्म ही नहीं हो रहा है. क्वरंटाइन के नाम पर उनके साथ बेहद बुरा व्यवहार किया जा रहा है.

तबलीगी जमात के लोगों के साथ हो रही इस गैरइंसानी सलूक के लिए एआईएमआईए अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने दिल्‍ली सरकार पर बड़ा आरोप लगाया है. ओवैसी ने एक ट्वीट कर कहा, ‘नेगेटिव टेस्‍ट के बाद भी निजामुद्दीन मरकज के लोगों को डिस्‍चार्ज क्‍यों नहीं किया जा रहा है. वे दो बार जरूरी क्‍वारंटाइम की अवधि को पूरा कर चुके हैं लेकिन दिल्‍ली सरकार उन्‍हें डिस्‍चार्ज करने की इजाजत नहीं दे रही. ये 31 मार्च से वहां हैं और उन्‍हें तुरंत छुट्टी दी जानी चाहिए.

अरविंद केजरीवाल ने लोगों का पैसा लूटने के लिए शराब की दुकान खोल दी है. शराब के दाम 70 फीसदी बढ़ा दिये हैं. पेट्रोल-डीजल के दाम भी बढ़ा दिये हैं. शराब लेने के लिए कई-कई किलोमीटर लंबी लाइन लगी हुई है. सोशल डिस्टेंगिंस और कोरोना के दिशानिर्देशों की धज्जियां उड़ रही हैं, लेकिन केजरीवाल को इसकी कोई परवाह नहीं है, क्योंकि शराब की दुकान में खड़े लोग मुसलमान नहीं हैं. जो लाइन में खड़े हैं, दिल्ली सरकार की नजर में उनसे कोरोना नहीं फैलता है. कोरोना तो सिर्फ मुसलमान फैलाता है. इसलिए 31 मार्च से लेकर अब तक क्वरंटाइन के नाम पर जमातियों को कैद में रखा गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here