मरकज की भीड़ कोरोना फैला रही थी, तो क्या शराबियों की भीड़ कोरोना का टीका बना रही है

1
79731

पैगाम ब्यूरोः दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात के मरकज को देश में कोरोना फैलाने का जिम्मेदार ठहरा दिया गया. इसका बदला लेने के लिए मुसलमानों पर अत्याचार किया जा रहा है. जमातियों को क्वारंटाइन के नाम पर बंदी बना दिया गया है, लेकिन अब सवाल ये उठता है कि अगर मरकज में जमातियों की भीड़ कोरोना फैला रही थी, तो सोमवार से देश भर में शराब की दुकानों के बाहर लगी कई-कई किलोमीटर लंबी लाइन क्या कोरोना का टीका बना रही है?

जिस अरविंद केजरीवाल ने कोरोना फैलने के लिए तबलीगी जमात और उसके मरकज को जिम्मेदार ठहराया, अब क्या वो केजरीवाल शराब की दुकानों के बाहर लगी लाइन को कोरोना फैलने के लिए जिम्मेदार बतायेंगे?

गोदी मीडिया के पत्रकार और फोटोग्राफर देश भर में शराब की दुकानों के बाहर कैमरे और मोबाइल फोन लिए खड़े हैं. वो शराबियों की इस भीड़ में किसी मुसलमान को तलाश कर रहे हैं, ताकि इस हजारों की भीड़ से कोरोना फैलने के लिए किसी मुसलमान को जिम्मेदार ठहरा कर मोदी सरकार की नाकामियों को ढंक दिया जाये.

कुछ मीडिया वाले शराब दुकानों के मालिक का नाम पता कर रहे हैं. उन्हें शराब दुकान के किसी ऐसे मालिक की तलाश है, जो मुसलमान हो. ताकि उसे कोरोना फैलाने का जिम्मेदार करार देकर मुसलमानों पर हो रहे अत्याचार को और हवा दी जाये.

लेकिन गोदी मीडिया और केजरीवाल समेत तमाम बीजेपी शासित राज्यों की सरकार यहीं मात खा गये. वो भूल गये कि ये रमजान का महीना है. मुसलमान भी शराब पीता है और खूब पीता है, लेकिन बड़े से बड़ा मुस्लिम शराबी भी रमजाम के महीने में शराब को हाथ नहीं लगाता है. रह गयी मुसलमान दुकानदार की बात तो शायद ही देश में किसी शराब का मालिक कोई मुसलमान मिले.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here