रमजान के महीने में मंदिर गये शाहिद आफरीदी

0
231

पैगाम ब्यूरोः क्रिकेट के मैदान पर अपनी धूंधार बल्लेबाजी के लिए मशहूर पाकिस्तान के शाहिद आफरीदी एक सच्चे और पक्के मुसलमान हैं. पाबंदी के साथ नमाज पढ़ते हैं. हर साल रमजान के महीने में रोजा रखते हैं. लेकिन इस साल रमजान के महीने में शाहिद आफरीदी एक मंदिर में जा पहुंचे. बूम-बूम आफरिदी के नाम से मशहूर शाहिद की मंदिर जाने की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं.

अदरअसल पाकिस्तान में भी कोरना वायरस का प्रकोप बढ़ता जा रहा है. पाकिस्तान में कोरोना के मामलों की तादाद 35 हजार से ज्यादा हो चुकी है. लॉकडाउन के चलते पाकिस्तान में भी गरीबों की हालत बेहद खराब है. भूखमरी के हालात हो गये हैं. ऐसे लोगों की मदद के लिए शाहीद आफरीदी आगे आये हैं.

कोरोना लॉकडाउन में शाहिद अफरीदी अपनी संस्था ‘होप नॉट आउट’ के जरिए जरूरतमंदों की लगातार मदद कर रहे हैं. इसी सिलसिले में वो कराची के मशहूर श्री लक्ष्मीनारायण मंदिर पहुंच गये और वहां जरूरत का सामान लोगों के बीच बांटा, जिसकी कुछ तस्वीरें आफरीदी ने सोशल मीडिया पर शेयर की हैं.

शाहिद अफरीदी अकेले श्री लक्ष्मीनारायण मंदिर नहीं पहुंचे थे, बल्कि इस दौरान उनके साथ दुनिया और पाकिस्तान के मशहूर स्कवैश खिलाड़ी जहांगीर खान भी थे. जहांगीर खान ने भी राहत सामग्री बांटने में अफरीदी की मदद की. बता दें कि जहांगीर खान, अफरीदी की संस्था के अध्यक्ष भी हैं.

लोग शाहिद आफरिदी के इस नेक काम की काफी तारीफ कर रहे हैं. अफरीदी ने ट्विटर पर मंदिर में राहत सामग्री बांटने की तस्वीर शेयर की हैं. उन्होंने लिखा है, इस संकट में हम एकसाथ हैं और एकसाथ ही रहेंगे. एकता ही हमारी शक्ति है. अफरीदी के इस नेक काम के लिए मंदिर में मौजूद हिंदुओं ने उन्हें आशीर्वाद भी दिया.

लोगों की मदद करने के लिए शाहिद आफरीदी ने हाल ही में एक अभियान भी शुरू की है, जिसकी काफी तारीफ हो रही है. इसमें उन्होंने तमाम बड़े ब्रांड को अपनी सर्विस मुफ्त देने का ऑफर दिया है, बदले में इन ब्रांड्स को जरूरतमंदों के लिए राशन मुहैया कराना होगा.

एक वीडियो के जरिये ये अपील करते हुए शाहिद ने कहा, ‘उम्मीद करता हूं कि आप सब ठीक होंगे. मैंने आज तक जितने भी ब्रांड्स के लिए अलग-अलग विज्ञापनों में काम किया है, उनके लिए ये खास पैगाम है. वो मेरे फायदे के लिए था और उससे कंपनियों को भी फायदा हुआ. अब मैं उन सभी ब्रांड्स को अपनी सर्विस देने का ऑफर रखता हूं अपने मुल्क के लिए. मुझे आपसे कुछ नहीं चाहिए लेकिन जैसा कि आप जानते हैं कि पाकिस्तान बड़ा देश है और बहुत सी जगहों पर लोग अपने घरों में राशन पहुंचने का इंतजार कर रहे हैं. मुझे पैसा नहीं चाहिए, आप बस उनके लिए राशन का इंतजाम कर दीजिए.’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here