एक मुसलमान ने पशुपतिनाथ मंदिर के लिए बनायी विशेष घंटी, हाथ लगाये बगैर भी बजती है घंटी

0
322

पैगाम ब्यूरोः कोरोना संक्रमण के चलते पिछले दो महीने से देश के सभी मंदिर, मस्जिद, गिरजा और गुरुद्वारे बंद थे. हालांकि सरकार द्वारा ढील दिये जाने के बाद 8 जून से सभी धार्मिकस्थल खुल तो गये हैं लेकिन कोरोना संक्रमण से लोगों को बचाने के लिए मंदिरों में घंटी बजाने पर अभी भी पाबंदी लगी हुई है. लेकिन मध्य प्रदेश के मंदसौर का पशुपतिनाथ मंदिर देश का इकलौता ऐसा मंदिर है, जहां कोरोना महामारी के बीच भी घंटी बज रही है.

दरअसल, एक मुस्लिम शख्स नाहरू खान ने एक विशेष घंटी तैयार कर मंदिर में दिया है, जिसे बजाने के लिए हाथ लगाने की जरूरत नहीं है.

नाहरू खान ने पशुपतिनाथ मंदिर की घंटी में सेंसर सिस्टम लगाया है. जिसके चलते डेढ़ फुट की दूरी से हाथ दिखाने पर अपने आप ही घंटी बजने लगती है. मंदिर के लिए ये विशेष घंटी बनाने वाले नाहरु खान कहते हैं कि जब एक साथ मंदिर की घंटी और मस्जिद में अजान होगी तो हो सकता है कि ऊपरवाला हमें जल्दी से कोरोना से मुक्ति दे दे.

सेंसर सिस्टम वाली ये विशेष घंटी बनाने में नाहरु खान को तीन दिन लगे. इस घंटी को बजाने के लिए सिर्फ इसके नीचे चेहरा या हाथ दिखाना होता है और फिर घंटी बजने लगती है. मंदिर में आये भक्तों का कहना कि इस तरह की घंटी को सभी मंदिरों में लगाया जाना चाहिए ताकि लोग भगवान के दर्शन भी करते रहें और कोरोना के संक्रमण से भी बचे रहें.

विश्व प्रसिद्ध पशुपतिनाथ मंदिर के पुजारी कहते हैं कि घंटी छूने से संक्रमण फैल सकता है, इसलिए इसे हटा दिया गया था, लेकिन अब नाहरू भाई ने सेंसर सिस्टम वाली घंटी बनाकर हमें दान दिया है, जिससे बिना छुए ही घंटी बजने लगती है.

सिर्फ यही नहीं, नाहरु खान ने पशुपतिनाथ मंदिर को सैनिटाइजर स्प्रे मशीन एवं हाथ धोने की दो मशीनें भी भेंट की हैं. उन्होंने मंदिर में थर्मल स्क्रीनिंग के लिए स्केनर भी दिया है. हाथ धोने की मशीन को इस तरह से बनाया गया है कि यह मशीन पैरों से चलाई जा सकेगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here