बेहद महंगी हार्ले डेविडसन बाइक पर नजर आये चीफ जस्टिस बोबडेः तस्वीरें वायरल

0
190

पैगाम ब्यूरोः आमतौर पर अदालतों के जज सफेद पैंट शर्ट और काले कोट या गाउन में नजर आते हैं, लेकिन इनटरनेट पर चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (सीजेआई) एस. ए. बोबडे की एक तस्वीर ने तहलका मचा दिया है. जिसमें वो बेहद महंगी हार्ले डेविडसन बाइक के साथ नजर आ रहे हैं.

कोरोना महामारी के चलते चीफ जस्टिस बोबडे नागपुर में अपने घर से ही सुप्रीम कोर्ट के महत्वपूर्ण मामलों की सुनवाई कर रहे हैं. रविवार सुबह जब वह मॉर्निंग वॉक पर निकले, तो उनकी नजर हार्ले डेविडसन बाइक पर पड़ गई. जिसे देख कर वो अपने आपको रोक नहीं पाये. वो बाइक पर बैठक गये. हालांकि उन्होंने बाइक नहीं चलायी. सिर्फ बैठ कर ही दुनिया की इस महंगी बाइक की सवारी का लुत्फ उठाया. इस दौरान मौजूद लोगों ने उनकी फोटो खींच ली, जो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है.

सोशल मीडिया पर काफी लोग ये दावा कर रहे हैं कि ये हाई-एंड बाइक नागपुर के एक बीजेपी नेता के बेटे की है. तस्वीरों में नजर आ रही ये हार्ले डेविडसन बाइक सोनबा मुसाले के बेटे रोहित सोनजी मुसाले के नाम पर रजिस्टर्ड है. बीजेपी नेता सोनबा मुसाले 2014 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी के उम्मीदवार थे.

ये भी दावा किया जा रहा है कि इस हार्ले डेविडसन बाइक की कीमत कम से कम 40-45 लाख तो जरुर है. चीफ जस्टिस बोबडे का हार्ले डेविडसन प्रेम और उनका नया अवतार देख काफी लोग चौंक उठे हैं. जस्टिस शरद अरविंद बोबड़े सुप्रीम कोर्ट के 47वें सीजेआई हैं. उन्होंने जस्टिस रंजन गोगोई के बाद 18 नवंबर 2019 को पदभार संभाला है. चीफ जस्टिस के तौर पर जस्टिस बोबड़े का कार्यकाल करीब 17 महीने का है. वह 23 अप्रैल 2021 को रिटायर हो जायेंगे. बाइक पर बैठने की खुशी में वो मास्क लगाना भूल गये. जिस पर लोग सवाल कर रहे हैं.

सिर्फ यही नहीं चीफ जस्टिस बोबडे के आसपास जिस तरह से लोग खड़े हैं. वो कोरोना संकट की इस घड़ी में सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का भी उल्लंघन है. जिसके लिए भी लोग उंगली उठा रहे हैं.

बता दें कि पिछले कुछ सालों से लोग न्यायपालिका पर भी उंगली उठा रहे हैं. पिछले चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया जस्टिस रंजन गोगोई की मिसाल सामने हैं. उन्होंने अपने कार्यकाल में जितने फैसले दिये. चाहे वो राम मंदिर का मामला हो या फिर एनआरसी या राफेल का मामला. हर फैसले में सरकार को राहत मिली है. सबसे बड़ी बात ये है कि रिटायर होने के फौरन बाद सरकार ने उन्हें राज्यसभा का सदस्य बना दिया. जिससे सवाल उठाने वालों की बातों में दम नजर आने लगा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here