भारत की कोशिशों के बावजूद चीन लद्दाख के पैंगोंग सो और देपसांग से पीछे हटने को नहीं है तैयार

0
95

पैगाम ब्यूरोः चीन को पीछे हटाने की भारत की तमाम कोशिशें नाकाम साबित हो रही हैं. अब तक जो गोदी मीडिया ये ढोल पीट रहा था कि चीन भारतीय भूमि से वापस लौट गया है. वही मीडिया अब ये कह रहा है कि चीन पूर्वी लद्दाख में भारत के साथ तनाव कम के लिए राजी नहीं हो रहा है.

चीन एक तरफ तो पूर्वी लद्दाख के पैंगोंग सो और देपसांग में अपने सैनिकों को पीछे नहीं हटा रहा है और न ही वहां से हटने का कोई संकेत दे रहा है. वहीं वो दूसरी तरफ वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर अरुणाचल प्रदेश तक अपने सैनिकों की संख्या लगातार बढ़ाता जा रहा है.

इस स्थिति में दोनों देशों के बीच होने वाली सैन्य कमांडर स्तर की बातचीत को अगले हफ्ते तक टाल दिया गया है. दोनों देशों के बीच 5वें दौर की यह बातचीत 30 जुलाई को होने वाली थी, लेकिन चीन के इरादों को भांपते हुए फिलहाल बातचीत को टाल दिया गया है.

अधिकारियों के मुताबिक, पैंगोंग सो और देपसांग में चीनी सैनिकों के पीछे न हटने की दो वजहें हो सकती हैं. पहला, दोनों देशों के बीच 14 जुलाई को सैन्य कमांडर स्तर की चौथे दौर की बातचीत में डिसइंगेजमेंट के जिस प्रस्ताव पर सहमति बनी थी, उसे लागू करना चाहिए या नहीं, इसे लेकर चीन अभी भी दुविधा की स्थिति में है. दूसरा, चीन इस विवाद को खींचकर सर्दियों तक ले जाना चाहता है.

क्षेत्र में शांति बहाल करने के उद्देश्य से पूर्वी लद्दाख में संघर्ष वाली जगह से सेनाओं की वापसी को लेकर अभी तक दोनों देशों की सेनाओं के शीर्ष सैन्य कमांडरों के बीच चार चरण की वार्ता हो चुकी है. लेकिन चीन अड़ियल रवैया बनाये हुए है. उसके सैनिक अभी भी पूर्वी लद्दाख के पैंगोंग सो और देपसांग में डटे हुए हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here