पंजाब के मुख्यमंत्री ने सुरेश रैना को दिया आश्वासनः दोषियों को बख्शा नहीं जायेगा

0
208

पैगाम ब्यूरोः पंजाब के पठानकोट जिले में लुटेरों द्वारा हमला किये जाने के कुछ दिन बाद सोमवार को एक निजी अस्पताल में पूर्व क्रिकेटर सुरेश रैना (Suresh Raina) के फुफेरे भाई की मौत हो गई. पुलिस ने मंगलवार को यह जानकारी दी. इस बीच, पंजाब पुलिस (Punjab Police) ने मामले की जांच के लिये चार सदस्यीय विशेष जांच दल (SIT) का गठन किया है. सुरेश रैना द्वारा ट्विटर पर घटना की जांच कराने की मांग किये जाने के बाद यह कदम उठाया गया है. हमले में रैना के फूफा और उनके बेटे की मौत हुई है.

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिन्दर सिंह (Captain Amarinder Singh) ने भी क्रिकेटर रैना को आश्वासन दिया है कि दोषियों को बख्शा नहीं जायेगा. चार सदस्यीय जांच दल का नेतृत्व महानिरीक्षक (सीमा क्षेत्र) एस. पी. एस. परमार करेंगे. एसएसपी गुलनीत सिंह खुराना, पुलिस अधीक्षक (जांच) प्रभजोत सिंह विर्क और धार कलां के डीएसपी रविन्दर सिंह इसके सदस्य होंगे.

पुलिस के अनुसार, हमला 19 और 20 अगस्त की दरम्यानी रात को थारियाल गांव में हुआ था. हमले में रैना के फूफा अशोक कुमार (58) के सिर में चोट लगी थी और उसी रात उन्होंने दम तोड़ दिया था. पुलिस ने कहा था कि हमले में परिवार के चार और लोग घायल हुए हैं. पठानकोट के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक गुलनीत सिंह खुराना ने बताया कि अशोक के बड़े बेटे कौशल कुमार (32) की सोमवार को एक निजी अस्पताल में मौत हो गई.

पुलिस ने कहा कि अशोक की पत्नी आशा देवी की हालत अब भी नाजुक है जबकि उनका दूसरा बेटा अपिन (28) अब खतरे से बाहर है. खुराना ने कहा कि उनके दूसरे बेटे को जबड़े में चोट आई थी, जिसकी सर्जरी की गई है. अशोक की मां सत्या देवी (80) को पहले ही अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है.

रैना ने दोषियों को सजा दिलाने की मांग की है. उन्होंने ट्वीट कर कहा, ”पंजाब में मेरे परिवार के साथ जो हुआ, वह इतना भयावह है कि बयां नहीं किया जा सकता. मेरे फूफा को जान से मार दिया गया. मेरी बुआ और उनके दोनों बेटों को गंभीर चोटें आईं हैं. दुर्भाग्य से मेरी बुआ के बेटे का भी कई दिन तक जिंदगी की जंग लड़ने के बाद कल रात निधन हो गया. मेरी बुआ की हालत अब भी नाजुक है और उन्हें जीवन रक्षक प्रणाली पर रखा गया है.

सुरेश रैना ने लिखा, ”अभी तक हमें यह नहीं पता कि उस रात असल में क्या हुआ था और किसने ऐसा किया. मैं पंजाब पुलिस से इस मामले की जांच की अपील करता हूं. हमें कम से कम यह जानने का हक तो है कि किसने इस जघन्य अपराध को अंजाम दिया? उन अपराधियों को और अपराध करने से रोकना होगा.”

एसएसपी खुराना से जब पूछा गया कि क्या इस मामले में कोई गिरफ्तारी हुई है तो उन्होंने कहा कि अभी किसी को गिरफ्तार नहीं किया गया है. उन्होंने कहा कि हम तहकीकात कर रहे हैं.

पुलिस के अनुसार लूट की वारदात को अंजाम देने के इरादे से आये कुख्यात ”काले कच्छेवाला” गिरोह के तीन से चार सदस्यों ने अशोक के घर में उन पर और उनके परिवार वालों पर हमला किया. घटना के समय परिवार अपने घर की छत पर सो रहा था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here