कंगना ने किसानों को बताया आतंकवादी, कोर्ट ने दिया एफआईआर दायर करने का निर्देश

0
275

पैगाम ब्यूरोः महाराष्ट्र सरकार, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, मुंबई पुलिस और राहुल गांधी के खिलाफ अनाप-शनाप बयानबाजी कर सुर्खियों में आईं बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत को किसानों के खिलाफ बयानबाजी महंगी पड़ गई है.

कंगना ने किसानों के खिलाफ एक ट्वीट किया था, जिस पर कर्नाटक की एक अदालत ने इस मामले का संज्ञान लेते हुए एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया है. हालांकि खुद को क्षत्राणी बताने वाली कंगना ने बवाल होने पर इस ट्वीट को डिलीट कर दिया था.

कर्नाटक में तुमकुर कोर्ट ने कंगना रनौत के खिलाफ क्यथसांद्रा थाने की पुलिस को एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए है. रमेश नाइल एल. ने कंगना रनौत के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी. शिकायतकर्ता का कहना है कि कंगना ने किसानों का अपमान किया है.

बता दें कि मोदी सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ देश भर के किसान विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. किसानों के इस प्रदर्शन पर कंगना ने नाराजगी प्रकट करते हुए किसानों की तुलना आतंकवादियों से की थी.

कंगना रनौत ने ट्वीट कर कहा था, ”प्रधानमंत्री जी कोई सो रहा हो उसे जगाया जा सकता है, जिसे ग़लतफ़हमी हो उसे समझाया जा सकता है मगर जो सोने की ऐक्टिंग करे, नासमझने की ऐक्टिंग करे उसे आपके समझाने से क्या फ़र्क़ पड़ेगा? ये वही आतंकी हैं CAA से एक भी इंसान की सिटिज़ेन्शिप नहीं गयी मगर इन्होंने ख़ून की नदियां बहा दी.”

कंगना के इस ट्वीट की काफी आलोचना हुई थी. जिस पर कंगना ने 21 सितंबर को न सिर्फ सफाई दी थी, बल्कि उन्होंने राहुल गांधी पर आक्रमण भी किया था. उन्होंने कहा, ”जैसे श्री कृष्ण की नारायणी सेना थी, वैसे ही पप्पु की भी अपनी एक चंपू सेना है जो की सिर्फ़ अफ़वाहों के दम पे लड़ना जानती है, यह है मेरा ऑरिजिनल ट्वीट अगर कोई यह सिद्ध करदे की मैंने किसानों को आतंकी कहा, मैं माफ़ी मांगकर हमेशा केलिए ट्वीटर छोड़ दूँगी.”

हालांकि ये दावा करने वाली कंगना ने अपना पुराना ट्वीट डिलिट कर दिया है. उसके बाद से वो गायब सी हो गई हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here