बंगाल में हर धर्म का होता है सम्मानः सिख व्यक्ति की पगड़ी के अपमान पर ममता सरकार ने दी सफाई

0
21

पैगाम ब्यूरोः पश्चिम बंगाल में बीजेपी कार्यकर्ताओं की पुलिस से झड़प के दौरान एक सिख व्यक्ति के साथ बदसलूकी और पगड़ी उतरने का मामला गर्माया हुआ है. इस मामले को लेकर बीजेपी पश्चिम बंगाल सरकार पर लगातार निशाना साध रही है. अब पश्चिम बंगाल के गृह विभाग ने इस मामले में सफाई दी है और बीजेपी पर इस मामले को सांप्रदायिक रंग देने का आरोप लगाया है.

पश्चिम बंगाल सरकार के गृह विभाग ने रविवार को ट्वीट कर कहा, “पश्चिम बंगाल में हमारे सिख भाई और बहन शांति, सौहार्द और खुशी के साथ रहते हैं. हम सभी उनकी आस्था और प्रथाओं का सम्मान करते हैं. हाल ही की घटना में एक व्यक्ति को पकड़ा गया. जिसने आंदोलन के दौरान आंदोलनकारियों के बीच हथियार रखा हुआ था, जिसकी अनुमति नहीं थी.

गृह विभाग ने कहा, ‘अवैध रूप से हथियार रखना कानून के अनुसार अपराध है, लेकिन इस संदर्भ को घुमाया जा रहा है. इसके तथ्यों को तोड़ा-मरोड़ा जा रहा है और अपने फायदे के लिए इसे सांप्रदायिक रंग दिया जा रहा है.’

पश्चिम बंगाल गृह विभाग ने बीजेपी का नाम लिए बगैर कहा, ‘एक राजनीतिक दल संकीर्ण पक्षपातपूर्ण हित में इस विषय को सांप्रदायिक रंग दे रहा है, जिस पर बंगाल यकीन नहीं करता है. कानून के अनुसार पुलिसिंग की गई थी. पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा सिख पंथ के प्रति सर्वोच्च सम्मान की पुष्टि की जाती है.’

गौरतलब है कि बृहस्पतिवार को बीजेपी ने राज्य सरकार के खिलाफ राज्य सचिवालय नवान्न तक एक रैली निकाली थी. इस दौरान राज्य के हावड़ा में बीजेपी कार्यकर्ताओं के साथ पुलिस की झड़प हो गई. इस मौके पर पुलिस ने लोडेड पिस्टल के साथ एक सिख व्यक्ति को गिरफ्तार किया. गिरफ्तारी के दौरान हुई धक्कामुक्की में सिख व्यक्ति की पगड़ी खुल गई थी. गिरफ्तार सिख व्यक्ति का नाम बलविंदर सिंह है, जो पंजाब के भटिंडा का निवासी है. बीजेपी इसे सिख धर्म और बलविंदर सिंह का अपमान बता रही है. पार्टी ने कहा कि पुलिस ने धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाई है. वहीं बंगाल पुलिस ने सफाई करते हुए कहा कि उसकी ऐसी कोई मंशा नहीं थी. बंगाल पुलिस का कहना है कि बलविंदर से पिस्टल छीनने के दौरान पगड़ी अपने आप गिर गई.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here