टीवी चैनलों के फर्जी TRP मामले में अब तेज होगी जांच

0
102

पैगाम ब्यूरोः प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने फर्जी टीआरपी घोटाले (Fake TV Ratings Scam) के संबंध में धन शोधन (मनी लॉन्ड्रिंग) का एक मामला दर्ज किया है. मुंबई पुलिस (Mumbai Police) इस मामले की जांच कर रही है. आधिकारिक सूत्रों ने शुक्रवार को बताया कि केंद्रीय जांच एजेंसी ने प्रवर्तन मामला सूचना रिपोर्ट (ECRR) दाखिल की है, जो पुलिस एफआईआर के समान है. ED ने अक्टूबर में दाखिल की गई मुंबई पुलिस के एफआईआर का अध्ययन करने के बाद यह मामला दर्ज किया है.

सूत्रों ने कहा कि ED जल्द ही पुलिस एफआईआर में नामजद न्यूज चैनलों के अधिकारियों और अन्य लोगों को तलब करके उनसे पूछताछ करेगी और उनके बयान दर्ज करेगी. दरअसल, ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (BARC) ने हंसा रिसर्च ग्रुप के जरिए एक शिकायत दाखिल की थी, जिसमें आरोप लगाया गया था कि कुछ टीवी चैनल टेलीविजन रेटिंग प्वाइंट (TRP) से छेड़छाड़ कर रहे हैं.

BARC की इस शिकायत के बाद फर्जी टीआरपी घोटाला सामने आया था. पुलिस ने आरोप लगाया था कि कुछ चैनल टीआरपी बढ़वाने के लिए रिश्वत दे रहे हैं ताकि उनकी विज्ञापन से होने वाली कमाई बढ़ सके. आरोप है कि जिन घरों में टीआरपी को मापने वाले मीटर लगे हुए थे, उन्हें कोई एक चैनल खोले रखने के लिए रिश्वत दी जा रही थी. टीवी चैनलों के लिये टीआरपी काफी महत्वपूर्ण है, क्योंकि उनकी विज्ञापन से होने वाली कमाई इसी पर निर्भर करती है. इस मामले में रिपब्लिक टीवी शक के घेरे में हैं. उसके कई अधिकारी अब तक गिरफ्तार हो चुके हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here