खेल जगत पर मनहूस साया, फुटबॉल के भगवान मेराडोना का निधन

0
341

पैगाम ब्यूरोः साल 2020 शायद इतिहास का सबसे मनहूस साल गुजर रहा है. इस साल ने ऐसे-ऐसे लोगों की जीवन लीला खत्म कर दी है कि सोच कर भी हैरत हो रही है. खले जगत पर भी इस मनहूस साल का बुरा असर पड़ा है. दुनिया के महान फुटबॉलरों में से एक डियेगो मेराडोना का निधन हो गया है. मेराडोना की मौत पिछले कुछ सालों में खेल जगत की सबसे बड़ी त्रास्दी है.

अर्जेन्टीना के महान फुटबॉलर और डिएगो माराडोना का 60 साल की उम्र में निधन हो गया. कार्डिएक अरेस्ट की वजह से उनकी मौत हुई है. इसी महीने माराडोना की ब्रेन सर्जरी हुई थी और दो सप्ताह पहले ही उन्हें अस्पताल से छुट्टी मिली थी. माराडोना को दुनिया के महान फुटबॉलरों में शामिल किया जाता है. 1986 में अर्जेंटीना को वर्ल्ड चैंपियन बनाने में मराडोना का बड़ा हाथ रहा था.

माराडोना चार फीफा विश्व कप खेल चुके थे. साल 1986 में उन्होंने अर्जेंटीना को अपने दम पर फुटबॉल वर्ल्ड चैंपियन बनाया था. तब वे टीम के कप्तान थे.

माराडोना बोका जूनियर्स, नपोली और बार्सिलोना के लिए क्लब फुटबॉल खेल चुके हैं. दुनिया भर में उनके बहुत करोड़ों चाहने वाले हैं. ड्रग्स और शराब की लत के चलते वह कई बार विवादों में भी रह चुके हैं. उनकी मौत पर अर्जेंटीना फुटबॉल असोसिएशन ने शोक जताते हुए कहा, ‘हमारे लीजेंड के निधन से हम शोक में डूबे हैं, आप हमेशा हमारे दिलों में रहेंगे.’ अर्जेंटीना की ओर से खेलते हुए माराडोना ने 91 मैचों में 34 गोल किए. अर्जेंटीना की ओर से माराडोना ने चार वर्ल्ड कप में हिस्सा लिया है.

फुटबॉल जगत में हमेशा यह सवाल उठता रहा है कि अब तक फुटबॉल में सबसे महान खिलाड़ी कौन थे, पेले या मेराडोना. इसका जवाब आज तक न मिला है और शायद अब मिलेगा भी नहीं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here